Thursday, June 18, 2009

It is too much of a chore, this love

It is too much of a chore, this love,
too much of a keeping track; lovers,
they are always on a look out for a lapse,
when his love might dim, or his passion slack,
and each time he is quiet, the other fears
it is the end, and each time he is terse,
the other takes a spin on Auden's verse
and imagines himself recompensed, though
a moment ago he felt the pangs of death.
Love is a botched experiment in symmetry,
and all lovers mutter under their breath -
'If equal affection can never be true,
why can't the more loving one be you?'


(thanks to W.H. Auden)

Sunday, June 14, 2009

अब वो मौका

अब वो मौका, क्या मालूम, वापस आएगा या नहीं,
उस शाम, कमरे के बिलकुल पीछे बैठे हुए थे तुम,
तुम्हारे और मेरे बीच कुछ सत्तर-अस्सी लोगों का फासला,
मैं माइक पर, बोल तो रहा हूँ मानो उन सबसे, लेकिन
सच पूछो तो हर बोल केवल तुम्हारे कानों में पिरो रहां हूँ।
कमरे के इस तरफ़ से भेज रहा हूँ, एक औपचारिक भाषण
में छुपा हुआ प्रेम पत्र, जिसको बूझना केवल तुम्हारे जिम्मे है।
कमरे की एक मात्र लाइट मुझी पर टिकी हुई है, मुझे मालूम है 

कि हालांकि मैं तुम्हें नहीं देख सकता, तुम मुझे देख पा रहे होगे;
तुम्हारी मौजूदगी का सिर्फ़ एक ज़ायका है मुझे, और अंदाजा
लगा सकता हूँ, कि इस भीड़
के पिछली तरफ़, तुम बावरे से
बैठे हुए होगे, सोच रहे होगे कि तुमसे परे हैं मेरे सारे इरादे,
तुमसे ऊपर हैं, कि मानो इन्हीं सत्तर-अस्सी लोगों के लिए हैं,
और मेरा हर दांव इन सबकी वाह-वाही लूटने के लिए,
पर ग़लत हो तुम, ये सार्वजनिक चर्चा तो एक बहाना है

तुमसे बात करने का, या क्या पता ग़लत हूँ मैं, कि वो बातें जो
मुझे तुम्हारे कानों में फुसफुसानी चाहिए, वो ऐसे कह रहा हूँ।

Monday, June 8, 2009

Tell it like it is

I write in a bid to exorcise you, to finish
you once and for all, but whatever I write,
it ends up reading like rapture, and all
my attempts at invective resign into an
embarrassing sort of fondness.
To love
was never a pity in my eyes, but to be
this humorless image of the lover.
Now
tell it like it is, how many times have you
smiled when you see me like this? No, do not
hold hands, do not kiss, do not do the things
you usually do to assuage, just tell it like it is.