Saturday, July 23, 2011

Come let me walk you down the Pentonville Road

Come let me walk you down the Pentonville Road
come let us do our last thing as friends
for once you take that train back home
our beginnings won't know our ends.

Come let me give you my hand to hold awhile
or to rest your troubled head, my shoulder,
for if again, some evening, you'd think of calling me,
you might feel that much more the bolder.

Come let me wait a bit for your train with you,
another five minutes dawdling in King's Cross,
another five minutes, for us, for all our love, 
another five minutes, for us, for all our loss. 


(Thanks to Simon Gray)

Wednesday, July 6, 2011

मुझे बस

मुझे बस इक लोहे का टुकड़ा बना दे, रब, 
मैं उसकी बेल्ट का बकल बन जाऊं,
मुझे उसके कमरे का आइना बना दे, रब,
मैं रोज़ उसकी हि शकल बन जाऊं

मुझे रुकने का इरादा बना दे, ऐ खुदा, 
जो मैं आऊँ तो वो खुदा-हाफिज़ कह न सके,
मुझे घुटनों कि नरमी बना दे, ऐ खुदा,
मैं गुदगुदाऊँ, तो वो खुद में रह न सके

मुझे मेरे यार का मोबाइल फ़ोन बना दे, रब, 
मैं उसकी पैंट कि जेब में बैठा गाता रहूँ, 
जो डाले कभी वो अपनी शर्ट कि जेब में मुझे,  
मैं उसके दिल के करीब युं आता रहूँ