Sunday, March 18, 2012

'वो' - जैकी के

translated from Jackie Kay's English poem 'Her'


मुझे उसके बारे में बताया गया था
कि वो तो हमेशा हमेशा
कि वो तो कभी नहीं कभी नहीं
मैंने ये सब देखा था, सब सुना था
फिर भी उसके संग चल दी थी
वो तो हमेशा हमेशा
वो तो कभी नहीं कभी नहीं

उस छोटी सी निडर रात में
उसके होंठ, तितलियों से लम्हें
मैंने उसको पकड़ने कि कोशिश कि तो वो हसी
ऐसे जोर कि हसी कि सुनते ही चटक गयी थी मैं
उसके बारे में मुझे बताया तो गया था
कि वो तो हमेशा हमेशा
कि वो तो कभी नहीं कभी नहीं

हम दोनों युं हवा को सुनते रहे
हम दोनों युं तेज़ दौड़ते रहे 
हम दोनों, आसमान में, दूर, दूर, और दूर
और अब वो नहीं है
वैसे ही जैसे उसने कहा था
पर उसके बारे में बताया तो गया था
कि वो तो हमेशा हमेशा



Jackie Kay

Wednesday, March 14, 2012

प्लैन - शिवानी मुत्नेजा

translated from Shivani Mutneja's 'The Plan' (with help from Anonymous)

मेरे पैरों पर फैशन कि धूल
            आज रात हम सालों कि यादाश्त चुरा लेंगे
चुपके से बढ़ता हुआ समय हमें मिटाने कि साजिश में शामिल है
            बिना इंजन के भी गाड़ियाँ चला लेंगे
सेक्स ऐसा के ख़याल कि नोक पर हो
            चूमें तो एक दूसरे की सांसें चुरा लें
कोएन भी अपनी कोहनी मार रहा है
            आसमान से दंगो कि तसवीरें टपका दें
शहरों से कसबे उबल कर गिर रहे हैं
            इस बदलते समां को छूते हैं हम, जड़ो का हम दम घोटते हैं।


Shivani Mutneja