Thursday, April 3, 2014

अल्लाह जी

अल्लाह जी, अल्लाह जी, अल्लाह जी
भगतन मैं त्वाड्डी अल्लाह जी 

मेरा हाल ते वेक्खो 
जिवें नाव बिन पानी 
मैं ते करदी रेंदी सी 
अपणी मनमानी,
हुने ठोकर जे खायी 
मैं ते बणी सयानी 
तेरी शरण विच आयी 
मैं ते करां तेरी वाणी 

अल्लाह जी, अल्लाह जी, अल्लाह जी
हूँ भगतन मैं त्वाड्डी अल्लाह जी 

No comments: