Saturday, January 3, 2015

सफदर*

(12 अप्रैल 1954 - 2 जनवरी 1989)

tr. from Anand Patwardhan's "Safdar"

तो तुमने नहीं देखा बाबरी मस्जिद की तबाही को
और उसके बाद उस हिंसा और नफरत को
तुमने नहीं देखा रमाबाई और और कई दलित हत्या-कांडों को
नहीं देखा तुम्हारे इस देश का एटम बम के लिए प्यार
२००२ में गुजरात की तबाही तुमने नहीं देखी
और नहीं देखी पड़ोसी पाकिस्तान में
तालिबान की रचना, और यहाँ

इस साल हत्यारों का राज्याभिषेक तुमने नहीं देखा

तुम्हारे बाद, हम सब ने ये सब देखा

और देखी बस तुम्हारी राह 

*श्रमिकों के बारे में एक नुक्कड़ नाटक करते हुए, सफदर हाशमी, एक नाटककार, निर्देशक, अभिनेता, गीतकार और थिएटर में अपने काम के लिए प्रसिद्ध विचारक की झंडापुर औद्योगिक शहर में 1989 में हत्या कर दी गयी थी।



Safdar Hashmi (1954-1989)

Anand Patwardhan

No comments: