Thursday, April 2, 2015

मेट्रो स्टेशन की

भीड़ में इन चेहरों के साये
इक भीगी सांवली सी टहनी पर पंखुड़ियाँ


tr. from Ezra Pound's 'In a Station of the Metro'

No comments: