Sunday, April 5, 2015

नीले से पैगाम

tr. from Sthira Bhattacharya's 'messages in blue'
 
ज़रा सा खिसकती हैं 
      ये नसें, कि गई रात का
इतिहास उनमें घुल जाए; 
      कहाँ कोई इतना बदलता है
कि खून से ही बचा रहे 


Sthira Bhattacharya


 

No comments: