Wednesday, May 13, 2015

जब तक तुम

प्यार की सच्ची कसम खाओगी,
शरमाओगी, इतराओगी,
और वो भी अपना प्यार जताएगा,
कसमें खाएगा, खिलाएगा,
तब तक जान लेना मैडम (ये सबका फेट रहा है)
तुम में से कोई एक लपेट रहा है

tr. from Dorothy Parker's 'Unfortunate Coincidence'

Dorothy Parker
 

No comments: