Monday, July 27, 2015

गुलमोहर - Dorothy Parker

tr. from Dorothy Parker's 'Cherry White'

जब भी देखती हूँ वो नज़ारा -- यूँ बसंत में गुलमोहर,
हर टहनी पर लाल पे लाल सटका हुआ --
सोचती हूँ, "कितना अच्छा लगेगा मेरा जिस्म इस
फूलों से लदे पेड़ पर फंदे से लटका हुआ" 



Dorothy Parker
 

No comments: