Friday, April 8, 2016

तुम याद आते हो

जैसे नाईट-ड्यूटी पर नींद आती है,
बिन बुलाए, हमेशा।

No comments: