Wednesday, September 28, 2016

बुढ़ापे पर एक मॉनसून नोट

tr. from Agha Shahid Ali's A Monsoon Note on Old Age

ये पचास साल बाद की बात है, मैं
अपने सामने बैठा हुआ हूँ, मॉनसून के
पसीने में तह लगा हुआ, मेरी खाल

मुरझाई सी, थका सा ख़ुसरा, सिर्फ
एक गैरमौजूदगी से आगाह;

                                        खिड़की की छड़ें
मुझपर कैदखाने का नक़्शा बनाती हैं;

                                        मैं तारों को फेंटता हूँ
पुराने ताश की गड्डी;

                                        रात फिर से बारिश सी
बनावट हासिल कर लेती है। मैं तुम्हारी फोटो
को ज़्यादा ही धुप दिखा रहा हूँ; मौत

के दूर-दराज़ देश से धुल उड़ा रहा हूँ।                       



Agha Shahid Ali
                

No comments: