Sunday, April 16, 2017

मांस की हल्की महक - सुकीरथारानी

tr. from Sukirtharani's A faint smell of meat tr. from Tamil by Lakshmi Holmstrom

उनके हिसाब से
मैं, जिससे मांस की हल्की महक आती है,
मेरा घर जहाँ छिली हुई
हड्डियां टंगी हैं,
और मेरी गली
जहाँ लड़के मस्ती से फिरते हैं
जोरों से गाते हुए, खाल से पिरोये
नारियल बजाते हुए
सब इस कसबे के किसी बाहरी छोर पर रहते हैं।
पर मैं, मैं उन्हें आश्वस्त कराती रहती हूँ
कि हम तो सबसे आगे तैनात हैं।

No comments: